My Name on Mars

Tuesday, January 31, 2012

राष्ट्रीय भौतिक प्रयोगशाला का भ्रमण National Physical Laboratory New Delhi

राष्ट्रीय भौतिक प्रयोगशाला का भ्रमण भाग-१ National Physical Laboratory New Delhi Part-1
National Physical Laboratory
देश की राजधानी दिल्ली मे बहुत कुछ ऐसा भी है जो विज्ञान शिक्षार्थियों,शोधार्थियों के लिए बहुत महत्व रखता है ऐसा ही एक स्थान मुझ अपने दिल्ली मे एन.पी. एल. अतिथिगृह प्रवास के दौरान देखने को मिला.
डा.आर.पी.पन्त के साथ 
यह स्थान है राष्ट्रीय भौतिक प्रयोगशाला,पूसा न्यू दिल्ली जिसके बारे मे कहा जाता है A Premier Research Laboratory in India in the Field of Physical Sciences.
9 से 12 जनवरी 2012 के दिल्ली दौरे मे मेरी NPL देखने की इच्छा पूरी हुई. मै अपने मित्र मैसूर कर्नाटक के अध्यापक महेश चंद्र और भुवनेश्वर ओडिसा के नवीन जी के साथ राष्ट्रीय भौतिक प्रयोगशाला पहुंचा.थोड़ी सी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद हम पहुंचे सबसे पहले डा.आर.पी.पन्त जी की लैब 'सामग्री अभिलक्षण प्रभाग' (Materials Characterization Division) मे,जहां डा.पन्त ने हमे विस्तार से चुम्बकीय तरल पदार्थ(magnetic fluids) के बारे मे बताया.चुम्बकीय-द्रव,चुंबकीय नैनोकणों के कोलाइडयन निलंबन हैं 
ferrofluid 
इसे ferrofluid भी कहा जाता है फेरोफल्युड एक तरल है जो चुम्बकीय क्षेत्र की उपस्थिती मे शक्तिशाली ढंग से चुम्बकीय हो जाता है यह एक  कोलाइडयन निलंबन की तरह है जो नैनोस्केल माप के फेरोमेगनेटिक कण किसी करियर द्रव मे लटके रहते हैं.इन फेरोमेगनेटिक कणों का व्यास 10 नैनोमीटर या उस से भी कम होता है.फेरोफल्युड या द्रव बनाने के लिए तीन पदार्थ चाहियें.बनाने की विधि यहाँ देखें. 
१.आर्द्रक १०%(surfactant 10%)
२.चुम्बकीय ठोस पदार्थ जैसेFeCl3,FeCl2 5 %(Magnetic Solid)  
३.कैरियर या सम्वाहक द्रव 85 % (85% Carrier)
 surfactant के रूप में oleic एसिड,और वाहक द्रव कणों निलंबित के रूप में मिट्टी के तेल का प्रयोग किया जा सकता है.
डा.आर.पी. पन्त जी ने बताया कि फेरोफल्युड के बहुत अनुप्रयोग है इसका प्रयोगों का भविष्य बहुत ही उज्जवल है.फेरोफल्युड का उपयोग कैंसर से लड़ने के लिए किया जाता है.डा.आर.पी.पन्त ने हमें बताया कि फेरोफल्युड का उपयोग कृषि मे किये जाने की अपार सम्भावनाएं हैं यदि ऐसा हो जाता है तो यह एक नयी कृषि क्रान्ति होगी.यहाँ हमने फेरोफल्युड के बारे मे और भी बहुत सी जानकारियाँ मिली. डा.पन्त ने हमें बताया कि जनवरी २०१३ मे एन.पी.एल.फेरोफल्युड पर क अंतर्राष्ट्रीय कांफ्रेंस आयोजित करवाने जा रहा है जिसमे देश विदेश से वैज्ञानिक,डेलिगेटस भाग लेंगें.डा.पन्त ने हमें इस अंतर्राष्ट्रीय कांफ्रेंस मे भाग लेने के लिए प्रेरित किया.यदि कोई इस अंतर्राष्ट्रीय कांफ्रेंस मे भाग लेना चाहता है तो वो इस लिंक 13th ICMF  पर जा कर अपना पंजीकरण करवा सकता है. 
फेरोफल्युड के कुछ अन्य उपयोग...... 
१.कुछ इलेक्ट्रोनिक युक्तियों मे फेरोफल्युड का प्रयोग होता है.
२.यांत्रिक अभियांत्रिकी मे फेरोफल्युड का प्रयोग होता है.
३.अंतरिक्ष यान और विमान निर्माण तकनीक मे फेरोफल्युड का प्रयोग होता है.
४.विश्लेषणात्मक उपकरण बनाने मे फेरोफल्युड का प्रयोग होता है.
५.थर्मोमेग्नेटिक ऊष्मा संवहन मे 
६.प्रकाशिकी मे 
७.विभिन्न प्रकार की कलात्मक आकृतियाँ बनाने मे जैसे बेबिलोनियन स्तम्भ आदि   
बाकी का विवरण आगामी किस्तों मे वर्णित किया जाएगा ........ 

प्रस्तुति :- सी.वी.रमन साइंस क्लब यमुना नगर हरियाणा
द्वारा :- दर्शन बवेजा,विज्ञान अध्यापक,यमुना नगर,हरियाणा

1 comment:

  1. A liquid magnet or ferrofluid is a colloidal mixture of magnetic particles (~10 nm in diameter) in a liquid carrier. The carrier contains a surfactant to prevent the particles from sticking together. Ferrofluids can be suspended in water or in an organic fluid. A typical ferrofluid is about 5% magnetic solids, 10% surfactant, and 85% carrier, by volume. One type of ferrofluid you can make uses magnetite for the magnetic particles, oleic acid as the surfactant, and kerosene as the carrier fluid to suspend the particles.
    Several people have asked me if they can make substitutions for the oleic acid and the kerosene. The answer is yes, though changing the chemicals will change the characteristics of the ferrofluid somewhat. You can try other surfactants and other organic solvents. The surfactant must be soluble in the solvent.

    When no external magnetic field is present the fluid is not magnetic and the orientation of the magnetite particles is random. However, when an external magnetic field is applied, the magnetic moments of the particles align with the magnetic field lines. When the magnetic field is removed, the particles return to random alignment. These properties can be used to make a liquid that changes its density depending on the strength of the magnetic field and that can form fantastic shapes.

    You can find ferrofluids in high-end speakers and in the laser heads of some CD and DVD players. They are used in low friction seals for rotating shaft motors and computer disk drive seals. You could open a computer disk drive or a speaker to get to the liquid magnet, but it's pretty easy (and fun) to make your own ferrofluid.

    ReplyDelete

टिप्पणी करें बेबाक