My Name on Mars

Thursday, December 29, 2011

पानी की बूँद उपर कैसे चढ़ी ?A drop of water.

पानी की बूँद उपर कैसे चढ़ी ? A drop of water.
इस प्रयोग में बताया गया है कि बुलबुला उपर कैसे चढ़ा,बच्चों की जिज्ञासा अब इतनी बढ़ चुकी है कि वो गतिविधियों को देखते है और साथ के साथ उस को बना भी डालते हैं . आओ जाने कैसे हुआ यह ?
आवश्यक सामग्री : एक इंजेक्शन की खाली शीशी,एक पेन का खाली रिफिल (5 cm) का टुकड़ा,शीशी की रबर की ढक्कन,पानी आदि 
सिद्धांत : वायु गर्म होने पर फैलती है. 
पानी की बूँद डालते हुए 
कार्य विधि : शीशी की रबर कैप में किसी नोकदार कील या तार से छेद कर लेते हैं फिर बाल पेन के खाली रिफिल का 5 cm का टुकड़ा काट लेते हैं इस रिफिल के टुकड़े को रबर कैप में किये गए छेद में डाल देते हैं और ढक्कन को शीशी पर चढ़ा देते हैं अब इस रिफिल पाईप में दो तीन बूंद पानी की डालते हैं.
नोट यदि पानी रिफिल में नीचे न जा रहा हो तो थोड़ा सा ढक्कन ढीला कर के फिर कस देते है. अब अपनी दोनों हथेलियों को जोर जोर से रगड़ते हैं जब वो बहुत हर्म हो जाए तो शीशी को हथेलियों में लेते हैं तब हम क्या देखते है कि पानी की बूँद नली में उपर चढ़ने लगती है .
शीशी को पकडना 
ऐसा क्यूँ हुआ ? : जब हम गर्म हथेलियों में शीशी को पकड़ते हैं तो शीशी के अंदर की वायु गर्म होती है और गर्म हो कर वायु फैलती है और उपर जाती है यह गर्म  हुई वायु  रिफिल में से आगे जाती है क्यूंकि एक वो ही मार्ग है गमन के लिए और उस मार्ग का रास्ता रोका है पानी की बूँद ने, अतैव वायु पानी की बूँद को भी आगे धकेलती है और पानी नी बूँद बाहर निकल जाती है.
इस प्रयोग में हमने गर्म वायु का विस्तार और सम्पीडन समझा.
इस प्रयोग का विडियो भी देख सकते है जो की एक बच्चे ने किया है 
प्रस्तुति :- सी.वी.रमन साइंस क्लब यमुना नगर हरियाणा
द्वारा :- दर्शन बवेजा,विज्ञान अध्यापक,यमुना नगर,हरियाणा
विज्ञानं संचार में अपना योगदान दें इस ब्लॉग के फालोअर बन कर   
उत्साहवर्धन करें |