My Name on Mars

Thursday, June 23, 2011

ट्रैकिंग,भ्रमण,प्रकृति अवलोकन गतिविधि Tracking to Hills of Shivalik

ट्रैकिंग,भ्रमण,प्रकृति अवलोकन गतिविधि Tracking to Hills of Shivalik
हमारे जिले यमुनानगर की ऊत्तरी सीमा शिवालिक पर्वत माला यानी कि हिमालय पर्वत माला की तराई पहाडियों से घिरी हुई है जिस के साथ साथ नेशनल पार्क राष्ट्रीय उद्यान कलेसर भी है. इस से आगे हिमाचल प्रदेश शुरू हो जाता है जिला यमुनानगर प्राकृतिक सम्पन्ता से भरपूर है इसके पूर्वी सीमा के साथ साथ चलती है यमुना नदी.
व्यस्त एवं भाग दौड़ भरी जिंदगी से कुछ दिनों के लिए आप एक शांत और सुकून की जगह तलाशते हैं और आप भी ट्रैकिंग के शौकीन हैं तो आप पगडंडियों को पार करते हुए ऊंचे-नीचे पथरीले रास्ते पर चलते जाने के रोमांच का आनन्द उठा सकते हैं. वैसे  तो ट्रैकिंग के लिए सितम्बर से नवंबर तक का मौसम बेहतरीन होता है पर या जब भी  समय मिले  मानसून को छोड़ कर  आप भी खुले आकाश के नीचे पहाड़ों की घाटियों में  रोमांच से भर जाना चाहते हैं तो तैयार हो जाइये ट्रैकिंग के लिए, हम आपको बता दें कि पर्वतारोहण में जहां प्रशिक्षण की आवश्यकता है, ट्रैकिंग के लिए ऐसी कोई बाध्यता नहीं.
परन्तु ट्रैक पर जाने से पहले मानसिक रूप से तैयारी तथा शारीरिक रूप से फिट होना जरूरी है.
स्थानीय लोगों के साथ मित्रता-पूर्ण व्यवहार तथा उनके रीति-रिवाजों का सम्मान करें.
ट्रैकिंग तेज चलने प्रतिस्पर्धा नहीं है। एक ही रफ्तार से न बहुत तेज और न बहुत धीमे तथा जिग-जैग चलते हुए, रास्ते में पड़ने वाले प्राकृतिक दृश्यों एवं खूबसूरत नजारों का आनंद उठाते हुए चलें. ट्रैकिंग के दौरान एक अच्छा कैमरा ले जाना न भूलिये। यात्रा के दौरान अपने रोमांच भरे क्षणों एवं सुन्दर दृश्यों को अपने कैमरे में कैद कर लीजिये, ताकि समय-समय पर अपने दोस्तों, रिश्तेदारों के साथ शेयर कर सकें.
 ट्रैकिंग पर निकलने के लिए कम से कम 3-4 लोगों का ग्रुप होना जरूरी है.
 अगर आपके पास समय कम है,लेकिन ट्रैकिंग के रोमांच का आनन्द उठाना चाहते हैं तो एक-दो दिनों की भी यात्रा कर सकते हैं। ऐसी यात्रा के लिए चंडीगढ़ के पास हरियाणा के पंचकुला जिले मे  स्थित मोरनी हिल जैसी जगहों की यात्रा हो सकती है. चंडीगढ़ से तो मोरनी हिल 45 किलोमीटर है, लेकिन मोरनी से टिक्कर ताल 10 किलोमीटर है.
हरियाणा के ही जिले यमुना नगर के उत्तरी छोर पर शिवालिक की तराई की छोटी छोटी पहाडियां आदिबद्री,कलेसर पर काफी लोग आते है इस उद्देश्य से ....
आज क्लब सदस्यों के साथ गर्मियों की छुट्टियों को यादगार बनने के उद्देश्य से एक एकदिवसीय कार्यक्रम बनाया गया जिस के अंतर्गत सबसे पहले एक पहाड़ को पैदल चल कर पार करने की योजना थी इस के साथ साथ प्रकृति के नज़ारे और जैव विविधता के भी अध्यन करने योजना के साथ चल दिए, मेघा,पारस,सलोनी,पार्थवी,विकास,इंदु,प्रिया,देवेन्द्र और मै खुद (दर्शन लाल).
भयंकर गर्मी को सहन करते हुए सूखी बरसाती नदी को डेढ़ किलोमीटर अपने पैरों से नापते हुए पहुंचे शिवालिक की तराई की पहली पहाड़ी के नीचे इस के नीचे से हमे अपना गंतव्य यानी चोटी साफ़ नज़र आ रही थी.
                       tracking to hills of shivalik-8 tracking to hills of shivalik-1   tracking to hills of shivalik-5
लकड़ी चोरों के कारनामे और भूमि कटाव व भूस्खलन को देखा और इस के बारे मे भी जाना कि जब पहाडो से पेड़ काट लिये जाते हैं तो उनकी जड़ों द्वारा जकड़ी गयी मिट्टी की पकड़ ढीली पड़ जाती है और वर्षा आने पर मिट्टी पानी के साथ साथ नीचे बहने लगती है इस दशा को भूस्खलन कहते हैं जो की पर्यावरण और भु-बनावट को प्रभावित करती है जिसके गंभीर दूरगामी परिणाम होते हैं.
tracking to hills of shivalik
ट्रैकिंग को दो जत्थों मे बाटा गया पहले जत्थे की अगुवाई कर रहीं है सबसे छोटी क्लब सदस्यां बेबी पार्थवी और दूसरे जत्थे की अगुवाई कर रहें है क्लब सदस्य प्रिया जी
 नन्ही लीडर रास्ता भूल जाने पर कितने ध्यान से देख रही है परन्तु उस को पता नहीं कि कैमरे की तीक्ष्ण नजर उन पर है और वो कभी नहीं भूल सकते है रास्ता,क्लब सदस्यों ने बहुत आनंद प्राप्त किया.
  इस खोजपूरक
 यात्रा के  दोरान 
बंदर लंगूर,बंदर,गिलहरी,नेवला,गोह,खरगोश,कबूतर,तितर,नीलगाय,गिरगिट,तोता,जंगली गाय,जंगली सूर आदि जीवों को देखा.
यह पहाड़ कलेसर नेशनल पार्क के अंदर आते हैं,हरियाणा के इस क्षेत्र को गत वर्षों मे ही नेशनल पार्क घोषित किया गया है तब से सख्त क़ानून लागू हो जाने के कारण और बड़े बड़े वन्य अधिकारी व स्टाफ वन गार्डनियुक्त किये गए हैं, जिस कारण अवैध शिकार और लकड़ी के अवैध कटान पर काफी नियंत्रण हुआ है .
नेशनल पार्क की रक्षा करने के लिए वन चौकी औरtracking to hills of shivalik-6       
मचान को भी देखा जिस के उपर से वन गार्ड जंगलों की शुरक्षा करते हैं. imp-2

  
             


 वैसे तो मै फोटो खिचवाने मे  ज्यादा विशवास नहीं करता परन्तु इस बेतरीन प्राकृतिक नज़ारे को देख कर मै अपने को रोक नहीं पाया और एक फोटो दे डाली.
अब दोनों ग्रुप एक दूसरे को भी खोज चुके थे.
tracking to hills of shivalik-4  imp-3
बेबी पार्थवी भी थक कर अपनी सवारी पर स्थान ग्रहण कर चुकी थी.
tracking to hills of shivalik
जंगली फल फूल पेड़ पौधे सब को नया नया ज्ञान दे रहे थे कोई बरगद की वायवीय जड़े देख कर पुलकित हो रहा था तो कोई नये नये प्रकार के फल देख कर हर्षित हो रहा था.
tracking to hills of shivalik-10 6 1 4 5
इन मनोरम दृश्यों के साथ सब ने लंच किया और फिर वहीं थोड़ी देर आराम कर के अपने घर को लौट आये.

प्रस्तुति :- सी.वी.रमन साइंस क्लब यमुना नगर हरियाणा
द्वारा :-दर्शन बवेजा,विज्ञान अध्यापक,यमुना नगर,हरियाणा
विज्ञानं संचार में अपना योगदान दें इस ब्लॉग के फालोअर बन कर    
  

Saturday, June 18, 2011

विज्ञान पहेली-20 Science Quiz-20 (और Science Quiz-19 का उत्तर)

विज्ञान पहेली-20 Science Quiz-20 (और Science Quiz-19 का उत्तर)


                             *****अंतिम साप्ताहिक पहेली***** 


 इस पहेली -१९  का जवाब दिया है.

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला जी - नीति

आपको व अन्य प्रतिभागियों,विजिटर्स को बहुत बहुत बधाईयां व धन्यवाद. 

दूसरा स्थान प्राप्त किया है .

आशीष श्रीवास्तव जी ने 

बीस पहेलियों के प्रकाशन के बाद यह साप्ताहिक पहेली बंद कर के मासिक कर दी जाएगी इसका कारण कोई खास नहीं है.
अब बारी है पहेली-१८ का जवाब


यह चित्र चन्द्रग्रहण का है.

क्लब ने 15 जून2011 के पूर्ण चंद्रग्रहण के लिए खास प्रबंध किये थे जिनमे 15 जून 2011 के दिन एक एकदिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया था.
15-16 जून 2011 को विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया था जिस की विस्तृत रिपोर्ट आप यहाँ पढ़ सकते है.

सभी उत्साह बढाने वाले बंधुओं का धन्यवाद और अब बारी है नयी पहेली की.....
****************************************************
विज्ञान पहेली-20 Science Quiz-20
**************************************************** 
यह चित्र क्या प्रकट करता है ? 
हेली का जवाब 26-6-2011,  8 बजे तक दे सकते है.   
हेली का परिणाम 26-6-2011,  9 बजे.
अगली पहेली अब हर माह  की पहली तारीख को यानी अगली मासिक पहेली अब 1 जुलाई को.  





प्रस्तुति :- सी.वी.रमन साइंस क्लब यमुना नगर हरियाणा
द्वारा :-दर्शन बवेजा,विज्ञान अध्यापक,यमुना नगर,हरियाणा
विज्ञानं संचार में अपना योगदान दें इस ब्लॉग के फालोअर बन कर    
     उत्साहवर्धन करें | 
   

  

Wednesday, June 15, 2011

चन्द्रग्रहण पर एक दिविसीय कार्यशाला सम्पन्न Lunar Eclipse Workshop


प्रतिभागी क्लब सदस्य 

पूर्ण चन्द्रग्रहण पर एक एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन
अमर उजाला 16-06-2011 
 15-06-2011 सी.वी.रमण विज्ञान क्लब सरोजिनी कालोनी यमुना नगर ने सार्वाधिक अन्धकारयुक्त  पूर्ण चन्द्रग्रहण पर एक एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया जिसके  प्रथम सत्र मे क्लब सदस्यों और अभिभावकों को पूर्ण चन्द्रग्रहण के बारे मे विस्तार पूर्वक बताया गया श्री दर्शन बवेजा ने चंद्रग्रहण और सूर्यग्रहण से सम्बन्धित अंधविश्वासों का निवारण किया और कहा कि हमे अन्धविश्वाश मुक्त हो कर इस खगोलीय नज़ारे का आनंद लेना चाहिये क्यूंकि यहाँ शायद कुछ यह नज़ारा फिर 2058 ई. मे  दुबारा ना देख पायें तो इस अवसर को नहीं चूकना चाहिए.
पूर्णिमा की आधी रात को खग्रास चंद्रग्रहण खास वैज्ञानिक महत्व रखता है चंद्रग्रहण की इस स्तिथि का वैज्ञानिक कईं तरीको से विश्लेषण करते है और महत्वपूर्ण परिणाम निकालते हैं.
माडल से पूर्ण चंद्रग्रहण समझाते हुए 
क्लब सदस्य आंचल कम्बोज,अमन,नमन वाशिष्ठ मे अपने बनाए गए माडल से पूर्ण चंद्रग्रहण के सभी प्रकारों को विस्तार से करके समझाया.
इसके बाद एक पेंटिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमे 15 क्लब सदस्यों ने भाग लिया चित्रकारी प्रतियोगिता के विषय नेचर,सौरउर्जा व चंद्रग्रहण रखे गए.
कुछ क्लब सदस्यों ने रात्री मे इस पूर्ण चंद्रग्रहण को अपने परिवार के साथ देखने की योजना बनाई है और कुछ ने क्लब सदस्यों के साथ.यदि आज रात्री का मौसम साफ़ रहता है तो यह अदभुद और विलक्षण नज़ारा अविस्मरणीय बन जाएगा.
इस कार्यशाला मे इंदु,आंचल,पार्थवी,नमन,अमन,दिशु,स्पर्श,अवनि,आरुशी,वन्शु,मोना,जसमीत,काजल,अर्श सैनी ने भाग लिया.
बच्चों ने स्वयं लिए ये छायाचित्र 
द्वितीय सत्र मे रात 11:30 से 3:30 प्रातः तक पूर्ण चन्द्रग्रहण का अवलोकन किया और हर 15 मिनट के अंतराल पर मुक्त हस्त चित्र बनाए और कैमरे से भी चित्र लिए.सभी क्लब सदस्यों ने इस पूर्ण चंद्रग्रहण का पूर्ण आनंद लिया.
क्लब सदस्यों के अनुसार इस कार्यक्रम से उन्हें बहुत कुछ सीखने को मिला और सबसे बड़ी बात यह की हमे अंधविश्वासों पर ना चल कर हर एक खगोलीय घटना का सुरक्षित आनंद लेना चाहिए.
दैनिक भास्कर 
सबसे बड़ी बात यह रही कि मौसम मे पूरा साथ दिया इसलिए सब प्रकृति के भी धन्यवादी हैं. क्लब सदस्यों को यह भी सूचना दी गयी कि अभी दो और चन्द्रग्रहण आने वाले हैं वे उन का भी आनंद ले और जल्द ही अंतर्राष्ट्रीय रसायन वर्ष 2011 के अवसर पर एक रसायन के प्रयोग और चमत्कारों का खंडन नामक कार्यशाला का भी आयोजन किया जाएगा.
         
प्रस्तुति :- सी.वी.रमन साइंस क्लब यमुना नगर हरियाणा
द्वारा :-दर्शन बवेजा,विज्ञान अध्यापक,यमुना नगर,हरियाणा
विज्ञानं संचार में अपना योगदान दें इस ब्लॉग के फालोअर बन कर    

Monday, June 13, 2011

दस ग्याहरा नयें विज्ञान चुटकले science joks


दस ग्याहरा नयें विज्ञान चुटकले science jokes 

जी हाँ गाँव  वालो की खास मांग पर एक पुरानी विज्ञान चुटकलों की शृंखला फिर से जारी  की जा रही है.
पेशे खिदमत हैं ११ नयें विज्ञान चुटकले 
पेश तो है पर हंसी आये या नहीं आये ये अनुसंधान का विषय है.   
यहाँ  से जोक्स का टेस्ट थोड़ा मिला जुला किया जा रहा है.

विज्ञान चुटकले-21
एक नेता जी को पेट्रोल पम्प के उदघाटन के लिए बुलाया गया.
उदघाटन के बाद नेता जी पेट्रोल पम्प के मालिक से पूछता है
'क्या आप को पूरी उम्मीद थी कि यहाँ से पेट्रोल निकलेगा'

विज्ञान चुटकले-22
डाक्टर ने मरीज का पेट का आपरेशन किया,फिर सिल दिया,फिर खोलने लगा.
नर्सक्या हुआ,अब क्यों खोल रहे हो ?
डाक्टर :कैंची बीच मे रह गयी
फिर सिल दिया,फिर खोलने लगा.
नर्सक्या हुआ,अब क्यों खोल रहे हो ?
डाक्टर : नाईफ बीच मे रह गया .
ऐसा आठ बार हुआ
इस दौरान मरीज उठ गया बोला
डाक्टर साब यहाँ एक जिप ही लगा दो जब मर्जी खोलना बंद करना :)

विज्ञान चुटकले-23
मरीज : डाक्टर साब मुझे भूख नहीं लगती. 
डाक्टरअच्छा !! तो फिर अपना खाना मुझे दे जाना.

विज्ञान चुटकले-24
विज्ञान अध्यापक : (छात्र से) तुम अपनी मम्मी को मा (Ma) कहो तो उनकी छोटी एवं बड़ी बहन को क्या कह कर पुकारोगे 
छात्र : मिनिमा और मैक्सिमा Mini-ma and Maxi-ma   
   
विज्ञान चुटकले-25
इतिहास के अध्यापक के छुटटी पर जाने से विज्ञान अध्यापक को इतिहास का पर्चा (प्रश्न पत्र) बनाने के लिए दिया गया. 
प्रश्नों को देखते ही छात्रों को झटका लगा,
प्रश्न सख्यां . रज़िया सुल्ताना का स्वच्छ एवं नामांकित आरेख बना कर वर्णन करें.
प्रश्न सख्यां . हल्दी घाटी के युद्ध का प्रयोगिक सत्यापन करो.
प्रश्न सख्यां . जंग* किसे कहते हैं जंग से बचने के क्या उपाय हैं? *(जंग=Rust) 
प्रश्न सख्यां . जिन्नाह और नेहरु के बीच केमिस्ट्री का वर्णन करो.
प्रश्न सख्यां . क्या होता है जब? अस्त्र-शस्त्रों को नमी वाले स्थान पर रख दिया जाए. 
प्रश्न सख्यां . राजा द्वारा शाही खजाने को बढ़ाने के नियम लिखो.   
प्रश्न सख्यां . बादशाह,बेगमों और उन की संतानों के लिए सूत्र का व्युत्पन करों.
प्रश्न सख्यां . १८५७ की क्रान्ति की विफलता और सफलता के बीच ग्राफीय अध्ययन करो. 
प्रश्न सख्यां . प्रचीन भवन निर्माण मे प्रयुक्त सामग्री का रसायनिक विश्लेषण करो.
प्रश्न सख्यां १०. सुकरात को पिलाए गए विष का रासायनिक नाम बताओ. 

विज्ञान चुटकले-26
अध्यापकक्याकोई उदाहरण है जिस मे तरल पदार्थ को गर्म करने पर व ठोस मे बदल जाता हो 
छात्र : जी हाँ 
अध्यापकक्या ?
छात्र : जी बेसन के पकोड़े.

विज्ञान चुटकले-27 
भौतिकी प्रवक्ता : क्या तुम्हे पता है गुरुत्व का नियम ही हमे बताता है कि हम धरती पर कैसे खड़े होते है?
छात्रसर गुरुत्व के नियम के प्रतिपादन से पहले क्या सब धरती पर लेटे रहते थे.  

विज्ञान चुटकले-28
चुम्बन की विषयवार व्याख्या 
अर्थशास्त्र के अनुसार : यह वो है जिस मे पूर्ति से अधिक मांग रहती है .
गणित ज्यामिति के अनुसार : दो ओठों के बीच की न्यूनतम दूरी.
कम्प्यूटर विज्ञान के अनुसार : दो हार्डवेयर ऐसे जोड़े जाएँ कि डाटा केबल की भी जरूरत नहीं पड़े. 
मेडिकल साईंस के अनुसार : जनसंख्या वृद्धि के लिए स्विच आन.
रसायन विज्ञान के अनुसार : बिना बाह्य उष्मा दिए ताप का बढ़ना.
भौतिकी के अनुसार : यह वो प्रक्रिया है जिस मे ह्युमन बोडी आवेशित होती है. 
यांत्रिक अभियांत्रिकी के अनुसार : दो बोडिज़ को बिना वेल्डिंग के जोड़ा जाना.
चिकित्सा विज्ञान के अनुसार : संचारित रोगों के फैलने की विधियों मे सम्पर्क द्वारा रोग फैलने का बेहतरीन उदाहरण की प्रस्तुति.

विज्ञान चुटकले-29
रसायन प्रवक्ता : यह रासायनिक समीकरण पूरी करों KI + 2S---------->----  
छात्र :   KI + 2S---------->KISS  

विज्ञान चुटकले-30
जीवविज्ञान प्रवक्ता : समाजशास्त्र और जीवविज्ञान मे क्या फर्क है 
छात्र : यदि नवजात पिता जैसा दिखता है तो जीव विज्ञान नहीं तो समाजविज्ञान. 

विज्ञान चुटकले-31 
ज्योतिषी मेंढ़क से : तुम जल्द ही एक खूबसूरत लड़की से मिलने वाले हो. 
मेंढ़ककब और कहाँ ?
ज्योतिषी मेंढ़क से : अगले माह B.Sc.थर्ड सेमेस्टर की बायो लैब मे.



२१ से पुराने भी पढ़ने हों तो कृपया यहाँ पर पढ़ें. 
प्रस्तुति :- सी.वी.रमन साइंस क्लब यमुना नगर हरियाणा
द्वारा :-दर्शन बवेजा,विज्ञान अध्यापक,यमुना नगर,हरियाणा
विज्ञानं संचार में अपना योगदान दें इस ब्लॉग के फालोअर बन कर