Wednesday, October 13, 2010

नाचती नेफ्थालिन की बाल्स Dancing Naphthalene Balls

नाचती नेफ्थालिन की बाल्स Dancing Naphthalene Balls
आज मेरी दसवी कक्षा के बच्चों  ने पाठ अम्ल क्षार व लवण में साइंस रूम गतिविधियों के अंतर्गत नाचती नेफ्थालिन की बाल्स का प्रयोग कर के देखा और सीखने का आनंद लिया
बालको की हाथ से प्रयोग करवाने की मेरी वचनब्द्धता का अनुपालन करते हुए मैंने उनके चेहरे पर आत्मविश्वास वो देखा जैसे वो खुद को वैज्ञानिक समझ रहे हों.........  
आवश्यक सामग्री:

naphthalene balls-1
 नेफ्थालिन की बाल्स जिसे प्यार से  फिनायल की  गोलियाँ भी कहते है
एसीटिक एसिड यानी सिरका या विनेगर  सोडियम हाइड्रोजन कार्बोनेट या मिठ्ठा सोडा  पानी ,काँच का बीकर(या काँच का बर्तन)  

कैसे नचाएंगे बाल्स को?
500 ml के बीकर  मे 400 ml पानी लो
तीन चम्मच सोडियम हाइड्रोजन कार्बोनेट या मिठ्ठा सोडा घोलो
फिर दो चम्मच एसीटिक एसिड यानी सिरका या विनेगर डालो
कार्बन डाई आक्साईड गैस बनेगी
फिर बीकर मे 5 फिनायल की गोलियाँ डालो और 3-4 मिनट इंतज़ार करो
देखा गोलियाँ कैसे ऊपर नीचे जाने लगती है जैसे प्यार से डांस कर रही हों
 naphthalene balls-2naphthalene balls-3 naphthalene balls-4
ऐसा क्यूँ हुआ ?
गोलियों की सतह पर कार्बन डाई आक्साईड गैस के बुलबुलें जमा होने शुरू हो जाते है जिस कारण वो फिनायल की गोलियाँ ऊपर उठ जाती है (आर्कमिडीज सिद्धांत) ऊपर जा कर गोलियों की सतह पर कार्बन डाई आक्साईड गैस के बुलबुलें फट जाते है और गोलियाँ भारी हो जाती है और नीचे आती है
Bubbles of CO2 settle on the surface of the balls, thereby decreasing its density. When the balls rise to the surface, the bubbles break and the balls sink.
देखे वीडियो -
video
 
प्रस्तुति:- दर्शन बवेजा ,विज्ञान अध्यापक ,यमुना नगर ,हरियाणा
Technorati Tags: Naphthalene Balls, नेफ्थालिन की बाल्स, science, 

4 comments:

टिप्पणी करें बेबाक