Sunday, September 05, 2010

वायु मे भार होता है Weighing the Air

वायु मे भार होता है Weighing the Air 
वायु  मे भार होता है  जब ये प्रश्न बच्चों से पूछा गया तो मिली जुली प्रतिक्रिया थी तब ये सोचा गया की एक गतिविधि की जाए जिससे ये पता लग सके की क्या वायु मे भी भार होता है ?
क्यूँ  ना पहले ये जाना जाए की वायु का संघटन क्या है विकी की मदद दरकार थी सो आभार विकी का करते हुए हमने ये  जाना की सब से ज्यादा तो नाईट्रोजन है वायु मे अरे वाह फिर प्राण वायु के नाम से प्रसिद्ध ऑक्सीजन थी 
आप भी जाने
Gas Volume
Nitrogen (N2) 78.084%
Oxygen (O2) 20.946%
Argon (Ar) 0.9340%
Carbon dioxide (CO2) 0.039%
Neon (Ne) 0.001818%
Helium (He) 0.000524%
Methane (CH4) 0.000179%
Krypton (Kr) 0.000114%
Hydrogen (H2) 0.000055%
Nitrous oxide (N2O) 0.00003%
Carbon monoxide (CO) 0.00001%
Xenon (Xe) 9 × 10−6%
Ozone (O3) 0% to 7 × 10−6%
Nitrogen dioxide (NO2) 2 × 10−6%
Iodine (I) 1 × 10−6%
Ammonia (NH3) trace
वायु मे इतना कुछ है तो भार भी होगा 
इसको जानने के लिए एक लकड़ी की फट्टी ली 
उसके  बीचो-बीच धागा बांधा और संतुलित किया 
फिर दो लगभग एक जैसे गुब्बारे लिए 
फट्टी के दोनों सिरों पर धागे से बाँध दिए 
गुब्बारों के धागे आगे पीछे कर के इन्हें भी संतुलन मे ले आये 
देखे   
 संतुलन मे लाने के बाद सावधानी पूर्वक एक गुब्बारे को धागे से निकाल कर फूला लेते है और इस फुले हुए गुब्बारे को वही धागे से उसी बिंदु पर सावधानी पूर्वक बाँध देते है   
बीच  के धागे से फट्टी उठाने पर देखते है कि फुले हुवे गुब्बारे की तरफ झुकाव है 
 यह झुकाव क्यूँ आया 
तो  फट से जवाब मिला की इधर बड़ा गुब्बारा है 
तो  क्या ?
उसमे  हवा है |
अच्छा  तो हवा भारी होती है|
जी हाँ सीख गये हम वाह वाह जी  
आप  सभी को अध्यापक दिवस की बधाई 
प्रस्तुति :- सी.वी.रमन साईंस क्लब यमुना नगर हरियाणा
द्वारा-- दर्शन बवेजा ,विज्ञान अध्यापक ,यमुना नगर, हरियाणा  


15 comments:

  1. एवेरी डे साईंस के रोचक प्रयोग -शिक्षक दिवस पर बहुत बधायी और आभार

    ReplyDelete
  2. मास्टर जी, को शिक्षक दिवस पर प्रणाम!!!

    ReplyDelete
  3. शीर्षक पढ़ने के बाद पोस्‍ट देखने के बजाय मैंने सोचना शुरू किया कि यदि मुझे ऐसा कुछ साबित करने की नौबत आए तो क्‍या करूंगा. पहले तो कुछ उपाय ही नहीं सूझा और काफी देर बाद अगर कुछ सूझना शुरू हुआ तो उसके सरंजाम इतने कि बस. तब पोस्‍ट खोलकर देखा. अब कह सकता हूं कि यह हवा के भार को तो सिद्ध कर ही रहा है और यह साबित करने का इससे आसान तरीका शायद कोई नहीं होगा.

    ReplyDelete
  4. मास्टर जी न्यान्याँ ने कुछ पढ़ा भी लिया करो यू खेल ही ना दिखांदे राह्या करो :)

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर तरीके से बात समझाई गयी. आभार.

    ReplyDelete
  6. शिक्षक दिवस पर इस जानकारीपरक पोस्ट के लिए आभार एवं बधाई।

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन दर्शन जी.... शिक्षक दिवस पर सांइंस के स्टुडेंट्स के लिए के तोहफा है यह्

    ReplyDelete
  8. क्या आप हिंदी ब्लॉग संकलक हमारीवाणी के सदस्य हैं?

    हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि

    ReplyDelete
  9. रोचक जानकारी एवं प्रयोग.

    ReplyDelete
  10. सिर्फ हवा में ही नहीं विज्ञान के कठिन से कठिन सिद्धांतों को समझाती हुई आपकी पोस्ट्स में भी काफी भार होता है

    बेहद बेहतरीन

    शिक्षक दिवस की बधाई देर से ही सही पर स्वीकार करें

    महक

    ReplyDelete
  11. रूचिकर जानकारी। समझने में कोई दिक्कत नहीं।

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर जी ,धन्यवाद

    ReplyDelete
  13. Wonderful experiments taught in a beautiful way....Thanks.

    ReplyDelete

टिप्पणी करें बेबाक